lyrics of tera fitoor :- tera fitur song is sung by Arijit Singh. Lyrics written by Kumaar and composed by Himesh Reshammiya, Music label Tips Music

lyrics of tera fitoor - Arijit Singh details

lyrics of tera fitoor - Arijit Singh
lyrics of tera fitoor - Arijit Singh


Song :- tera fitoor jab se chadh gaya
Singer :- Arijit Singh
Lyrics :- Kumaar
composed :- Himesh Reshammiya
Music Label :-  Tips Music

lyrics of tera fitoor


Tera fitoor jab se chadh gaya re
Tera fitoor jab se chadh gaya re
Ishq jo zara sa tha woh badh gaya re
Tera fitoor jab se chadh gaya re

Tu jo mere sang chalne lage
To meri raahein dhadakne lage
Dekhun jo na ik pal main tumhein
Toh meri baahein tadapne lage

Ishq jo zara sa tha woh badh gaya re
Tera fitoor jab se chadh gaya re
Tera fitoor jab se chadh gaya re

Haathon se laqeerein yehi kehti hai
Ki zindagi jo hai meri
Tujhi mein ab rehti hai

Labon pe likhi hai mere dil ki khwaahish
Lafzon mein kaise main bataaun
Ikk tujhko hi paane ki khaatir
Sabse judaa main ho jaaun

Kal tak maine jo bhi khwaab the dekhe
Tujhme woh dikhne lage
Ishq jo zara sa tha woh badh gaya re
Tera fitoor jab se chadh gaya re
Tera fitoor jab se chadh gaya re

Saanson ke kinaare bade tanha thhe
Tu aa ke inhe chhu le bas
Yehi toh mere armaan thhe
Saari duniya se mujhe kya lena hai
Bas tujhko hi pehchaanu
Mujhko na meri ab khabar ho koi
Tujhse hi khudko main jaanu
Raatein nahi kat’ti bechain se hoke
Din bhi guzarne lage

Ishq jo zara sa tha woh badh gaya re
Tera fitoor jab se chadh gaya re
Tera fitoor jab se chadh gaya re


lyrics of tera fitoor - Arijit Singh


tera fitoor lyrics in hindi


तेरा फ़ितूर जब से चढ़ गया रे
तेरा फ़ितूर जब से चढ़ गया रे
इश्क़ जो ज़रा सा था वो बढ़ गया रे
तेरा फ़ितूर जब से चढ़ गया रे

तू जो मेरे संग चलने लगे
तो मेरी राहें धड़कने लगे
देखूँ जो ना इक पल मैं तुम्हें
तो मेरी बाहें तड़पने लगे

इश्क़ जो ज़रा सा था वो बढ़ गया रे
तेरा फ़ितूर जब से चढ़ गया रे
तेरा फ़ितूर जब से चढ़ गया रे

आ...
हाथों से लकीरें यही कहती है
के ज़िंदगी जो है मेरी
तुझी में अब रेहती है

लबों पे लिखी है मेरे दिल की ख़्वाहिश
लफ़्ज़ों में कैसे मैं बताऊँ
इक तुझको ही पाने की ख़ातिर
सबसे जुदा मैं हो जाऊँ
कल तक मैंने जो भी ख़्वाब थे देखे
तुझमें वो दिखने लगे

इश्क़ जो ज़रा सा था वो बढ़ गया रे
तेरा फ़ितूर जब से चढ़ गया रे
तेरा फ़ितूर जब से चढ़ गया रे

सासों के किनारे बड़े तनहा थे
तू आ के इन्हें छू ले बस
यही तो मेरे अरमां थे

सारी दुनिया से मुझे क्या लेना है
बस तुझको ही पहचानू
मुझको ना मेरी अब ख़बर हो कोई
तुझसे ही खुदको मैं जानू
रातें नहीं कटती बेचैन से होके
दिन भी गुज़रने लगे

इश्क़ जो ज़रा सा था वो बढ़ गया रे
तेरा फ़ितूर जब से चढ़ गया रे
तेरा फ़ितूर जब से चढ़ गया रे

आ..

Post a Comment

Please do not enter any spam link in the comment box.

Previous Post Next Post