raabta lyrics :- Raabta song is from  Agent Vinod (2012) movie. Song is sung by Hamsika, Arijit Singh, and Joi. Lyrics written by Amitabh Bhattacharya and composed by Pritam, in song Starring Saif Ali Khan and Kareena Kapoor. Music label T-Series.

raabta lyrics - Arijit Singh details

raabta lyrics - Arijit Singh
raabta lyrics - Arijit Singh


Song - raabta lyrics
Singer - Hamsika, Arijit Singh, and Joi
Movie -  Agent Vinod (2012)
LYRICS by - Amitabh Bhattacharya
Composed - Pritam
Music Label - T-Series.

raabta lyrics


Kehte hain Khuda ne is jahan mein sabhi ke liye
Kisi na kisi ko hai banaya har kisike liye
Tera milna hai us Rab ka ishara maano
Mujhko banaya tere jaise hi kisi ke liye

Kehte hain Khuda ne is jahan mein sabhi ke liye
Kisi na kisi ko hai banaya har kisike liye
Tera milna hai us Rab ka ishara maano
Mujhko banaya tere jaise hi kisi ke liye
Kuchh to hai tujhse Raabta

Kuchh to hai tujhse raabta
Kaise hum jaanein humein kya pata
Kuchh to hai tujhse raabta
Tu humsafar hai, phir kya fikar hai
Jeene ki wajah hi yahi marna isi ke liye
Kehte hain Khuda ne is jahan mein sabhi ke liye
Kisi na kisi ko hai banaya har kisike liye

Meharbani jaate jaate mujh pe kar gaya
Ghuzarta sa lamha ek daman bhar gaya
Tere nazara mila, roshan sitara mila
Taqdeer ki kashtiyon ko kinara mila

Sadiyon se tarse hain jaisi zindagi ke liye
Teri sohbat mein duayein hain usi ke liye
Tere milna hai us rab ka ishara maano
Mujhko banaya tere jaise hi kisi ke liye

Kuchh to hai tujhse raabta
Kuchh to hai tujhse raabta
Kaise hum jaanein humein kya pata
Kuchh to hai tujhse raabta
Tu humsafar hai, phir kya fikar hai
Jeene ki wajah hi yahi marna isi ke liye
Kehte hain Khuda ne is jahan mein sabhi ke liye
Kisi na kisi ko hai banaya har kisike liye

raabta lyrics - Arijit Singh




raabta lyrics in Hindi


कहते हैं ख़ुदा ने इस जहाँ में
सभी के लिए किसी ना किसी को है बनाया
हर किसी के लिए
तेरा मिलना है उस रब का इशारा
मानो मुझको बनाया तेरे जैसे ही किसी के लिए

कुछ तो है तुझ से राबता
कुछ तो है तुझ से राबता
कैसे हम जाने, हमें क्या पता
कुछ तो है तुझ से राबता

तू हमसफ़र है, फिर क्या फिकर है
जीने की वजह यही है
मरना इसी के लिए

कहते हैं खुदा ने इस जहाँ में
सभी के लिए किसी ना किसी को है बनाया
हर किसी के लिए

हम्म्म मेहरबानी जाते-जाते मुझपे कर गया
गुज़रता सा लम्हा एक दामन भर गया
तेरा नज़ारा मिला, रौशन सितारा मिला
तक़दीर की कश्तियों को किनारा मिला

सदियों से तरसे हैं जैसी ज़िन्दगी के लिए
तेरी सोहबत में दुआएं हैं उसी के लिए
तेरा मिलना है उस रब का इशारा
मानो मुझको बनाया तेरे जैसे ही किसी के लिए

कुछ तो है तुझ से राबता
कुछ तो है तुझ से राबता
कैसे हम जाने हमें क्या पता
कुछ तो है तुझ से राबता

तू हमसफ़र है, फिर क्या फिकर है
जीने की वजह ही यही है
मरना इसी के लिए
 
कहते हैं ख़ुदा ने इस जहाँ में
सभी के लिए किसी ना किसी को है बनाया
हर किसी के लिए

Post a Comment

Please do not enter any spam link in the comment box.

Previous Post Next Post