afreen afreen lyrics :- afreen afreen lyrics song is sung by Rahat Fateh Ali Khan, Momina Mustehsan. Lyrics written by F K Khalish and composed by Fakhir Mehmood. Music label Coke Studio

afreen afreen lyrics - Rahat Fateh Ali Khan details

afreen afreen lyrics - Rahat Fateh Ali Khan
afreen afreen lyrics - Rahat Fateh Ali Khan


Song -  afreen afreen lyrics
Singer - Rahat Fateh Ali Khan, Momina Mustehsan
LYRICS by - F K Khalish
Composed - Fakhir Mehmood
Music Label - Coke Studio

afreen afreen lyrics


Aisa dekha nahi khoobsurat koi
Jism jaise Ajanta ki murat koi
Jism jaise nigahon pe jadoo koi
Jism nagma koi jism khushboo koi
Jism jaise mehakti hui chandni

Jism jaise machalti hui ragini
Jism jaise ke khilta hua ik chaman
Jism jaise ke suraj ki pehli kiran
Jism tarsha hua dilkasho dilnashin

Sandli sandli marmari marmari
Husan-e-jaana ki tareef mumkin nahi
Husan-e-jaana ki tareef mumkin nahi
Afreen afreen afreen afreen

Tu bhi dekhe agar toh kahe humnashin
Afreen afreen afreen afreen
Husan-e-jaana ki tareef mumkin nahi
Husan-e-jaana ki tareef mumkin nahi…


Jane kaisi bandhi tune akhiyon ke dor
Mann mera khicha chala aaya teri aor
Mere chehre ki subah zulfon ki shaam
Mera sab kuch hai piya ab se tere naam
Nazron ne teri chhua toh hai ye jadoo hua
Hone lagi hoon main haseen

Afreen afreen afreen
Afreen afreen afreen
Afreen afreen afreen
Afreen afreen afreen


Chehra ik phool ki tarah shadaab hai
Chehra uska hai ya koi mahtaab hai
Chehra jaise ghazal chehra jaane ghazal
Chehra jaise kali chehra jaise kanwal
Chehra jaise tasavur bhi tasveer bhi
Chehra ik khwab bhi chehra tabeer bhi

Chehra koi aliflailvi dastaan
Chehra ik pal yakeen chehra ik pal gumah
Chehra jaisa ke chehra kahin bhi nahi..
Mahrooh mahrooh mehjabin mehjabin
Husn-e-jaana ki tareef mumkin nahi
Husn-e-jaana ki tareef mumkin nahi

Afreen afreen afreen afreen
Tu bhi dekhe agar toh kahe humnashin
Afreen afreen afreen afreen
Usne jaana ki tareef mumkin nahi…

afreen afreen lyrics - Rahat Fateh Ali Khan


Afreen Afreen Hindi Lyrics


ऐसा देखा नहीं खूबसुरत कोई
जिस्म जैसे अजंता की मूरत कोई
जिस्म जैसे निगाहों पह जादू कोई
जिस्म नगमा कोई
जिस्म खुशबू कोई
जिस्म जैसे महकती हुई चाँदनी
जिस्म जैसे मचलती हुई रागिनी
जिस्म जैसे किः खिलता हुआ इक चमन
जिस्म जैसे की सूरज की पहली किरण
जिस्म तरशा हुआ दिलकश ओ दिलनशीं
संदाली संदाली
मरमरी मरमरी

हुस्न ई जानां की तारीफ़ मुमकिन नहीं
हुस्न ई जानां की तारीफ़ मुमकिन नहीं
आफ़रीं आफ़रीं
आफ़रीं आफ़रीं
तू भी देखे अगर तो कहे हमनशीं
आफ़रीं आफ़रीं
आफ़रीं आफ़रीं
हुस्न ई जानां की तारीफ़ मुमकिन नहीं
हुस्न ई जानां की तारीफ़ मुमकिन नहीं

जाने कैसे बांधे तूने अखियों के डोर
मन मेरा खिंचा चला आया तेरी ओर
मेरे चेहरे के सुबह जुल्फों की शाम
मेरा सब कुछ है पिया अब से तेरे नाम
नज़रों ने तेरी छुवा
तो है यह जादू हुआ
होने लगी हूँ मैं हसीं

आफ़रीं आफ़रीं आफ़रीं

चेहरा इक फूल की तरह शादाब है
चेहरा उस का है या कोई महताब है
चेहरा जैसे ग़ज़ल चेहरा जान ग़ज़ल
चेहरा जैसे कली चेहरा जैसे कँवल
चेहरा जैसे तसव्वुर भी तस्वीर भी
चेहरा इक खाब भी चेहरा ताबीर भी
चेहरा कोई अलिफ़ लैला की दास्ताँ
चेहरा इक पल यकीं चेहरा इक पल गुमां
चेहरा जैसा के चेहरा कहीं भी नहीं
माहरु माहरु महजबीं महजबीं

हुस्न ई जानां की तारीफ़ मुमकिन नहीं
हुस्न ई जानां की तारीफ़ मुमकिन नहीं
आफ़रीं आफ़रीं
आफ़रीं आफ़रीं तू भी देखे अगर तो कहे हमनशीं
आफ़रीं आफ़रीं
आफ़रीं आफ़रीं हुस्न ई जानां की तारीफ़ मुमकिन नहीं

आफ़रीं आफ़रीं
आफ़रीं आफ़रीं
आफ़रीं


Post a Comment

Please do not enter any spam link in the comment box.

Previous Post Next Post