bekhayali Lyrics :- bekhayali lyrics song is from Kabir Singh movie. Song is sung by Sachet Tandon. Lyrics written by Irshad Kamil and composed by Sachet Parampara, in song Starring Shahid Kapoor & Kiara Advani. Music label T-Series

bekhayali Lyrics - Kabir Singh details

bekhayali Lyrics in Hindi & English
bekhayali Lyrics in Hindi


Song – Bekhayali
Movie – Kabir Singh
Singers – Sachet Tandon
Musicians – Sachet-Parampara
Lyricists – Irshad Kamil

Bekhayali Lyrics


Bekhayali mein bhi tera hi khayal aaye
Kyun bichadna hai zaruri, yeh sawal aaye
Teri nazdeekiyon ki khushi behisaab thi
Hisse mein faasle bhi tere bemisaal aaye

Main jo tumse door hoon
Kyun door main rahun
Tera gurur hoon
Aa tu fasla mita
Tu khwaab sa mila
Kyun khwaab tod doon

Bekhayali mein bhi tera hi khayal aaye
Kyun judayi de gaya tu, yeh sawal aaye
Thoda sa main khafa ho gaya apne aap se
Thoda sa tujhpe bhi bewajah hi malaal aaye

Hai yeh tadpan, hai yeh uljhan
Kaise jee loon bina tere
Meri ab sabse hai an-ban
Bante kyun yeh khuda mere

Jo log-baag hain, jungle ki aag hain
Kyun aag mein jaloon
Yeh nakaam pyar mein
Khush hain yeh haar mein
Inn jaisa kyun banun

Raatein dengi bata
Needon mein teri hi baat hai
Bhoolun kaise tujhe
Tu to khayalon mein sath hai

Bekhayali mein bhi tera hi khayal aaye
Kyun bichadna hai zaruri yeh sawal aaye

Nazar ke aage har ik manzar
Reit ki tarah bikhar raha hai
Dard tumhara badan mein mere
Zehar ki tarah utar raha hai x (2)

Aa zmaane aazama le roothta nahi
Faaslon se hausla yeh toot’ta nahi
Na hai woh bewafa aur na main hoon bewafa
Woh meri aadaton ki tarah chhoot’ta nahi

bekhayali Lyrics in Hindi & English Kabir Singh


Bekhayali Lyrics in Hindi


हम्म..

बेखयाली में भी
तेरा ही ख्याल आये
क्यूँ बिछड़ना है ज़रूरी
ये सवाल आये

तेरी नजदीकियों की
ख़ुशी बेहिसाब थी
हिस्से में फासले भी
तेरे बेमिसाल आये

मैं जो तुमसे दूर हूँ
क्यूँ दूर मैं रहूँ
तेरा गुरुर हूँ..
हिन्दीट्रैक्स
आ तू फासला मिटा
तू ख्वाब सा मिला
क्यूँ ख्वाब तोड़ दूं

ऊ..

बेखयाली में भी
तेरा ही ख्याल आये
क्यूँ जुदाई दे गया तू
ये सवाल आये

थोड़ा सा मैं खफा हो
गया अपने आप से
थोड़ा सा तुझपे भी
बेवजह ही मलाल आये

है ये तड़पन, है ये उलझन
कैसे जी लूँ बिना तेरे
मेरी अब सब से है अनबन
बनते क्यूँ ये ख़ुदा मेरे
हम्म..

ये जो लोग बाग हैं
जंगल की आग हैं
क्यूँ आग में जलूं..
ये नाकाम प्यार में
खुश हैं ये हार में
इन जैसा क्यूँ बनूँ

ऊ..

रातें देंगी बता
नीदों में तेरी ही बात है
भूलूं कैसे तुझे
तू तो ख्यालों में साथ है

बेखयाली में भी
तेरा ही ख्याल आये
क्यूँ बिछड़ना है ज़रूरी
ये सवाल आये

ऊ..

नज़र के आगे हर एक मंजर
रेत की तरह बिखर रहा है
दर्द तुम्हारा बदन में मेरे
ज़हर की तरह उतर रहा है

नज़र के आगे हर एक मंजर
रेत की तरह बिखर रहा है
दर्द तुम्हारा बदन में मेरे
ज़हर की तरह उतर रहा है

आ ज़माने आजमा ले रुठता नहीं
फासलों से हौसला ये टूटता नहीं
ना है वो बेवफा और ना मैं हूँ बेवफा
वो मेरी आदतों की तरह छुटता नहीं

Post a Comment

Please do not enter any spam link in the comment box.

Previous Post Next Post